सोते-सोते मोटापा कम करे – How Can We Control Obesity

How Can We Control Obesity
How Can We Control Obesity |Motapa Kam Kaise Kare |Motapa Kam Kaise Kare |Motapa Kaise Ghataye | Motapa Kam Kaise Karen

सोते-सोते मोटापा कम करे – How Can We Control Obesity – Dr.Jagdish Joshi, Lifestyle Expert 125

How Can We Control Obesity

How Can We Control Obesity -आज के समय मे मोटापा एक आम समस्या है | बच्चे से लेकर बुजुर्ग मोटापे से परेशान है? व्यक्ति मोटापे से मुक्ति पाने के लिए न जाने कितने उपाय करता है | किन्तु मोटापा है की कम ही नहीं होता | कई लोग बड़े हुए पेट से परेशान रहते है | आप सोते-सोते मोटापा आसानी से कम कर सकते है |

आखिर मोटापा कैसे कम करें? (Motapa Kaise Ghataye):

मोटापा कम करने मे प्राकृतिक चिकित्सा बहुत महत्वपूर्ण भूमिका अदा करती है | प्राकृतिक चिकित्सा शरीर के विभिन्न आन्तरिक व वाह्य अंगों को कार्यक्षम बनाती है |

तो आईये हम प्राकृतिक चिकित्सा के अनमोल प्रयोग “चादर लपेट” से मोटापा कम करना सीखे |

चादर लपेट के प्रयोग को हम गर्मी के मौसम मे बड़े आनंद के साथ कर सकते है | क्योकि गर्मी के मौसम मे ठंडक शरीर को आनंद देती है |

चादर लपेट प्राकृतिक चिकित्सा का एक बहुत ही चमत्कारिक प्रयोग है । इस प्रयोग के माध्यम से हम आसानी से मोटापा कम सकते है । इस प्रयोग को करने के लिए घर में उपलब्ध साधनो से ही किया जा सकता है | चादर लपेट वाष्प स्नान का श्रेष्ठ विकल्प है ।

जब वातावरण में अधिक गर्मी होती है तो अत्यधिक गर्मी के कारण वाष्प स्नान नहीं कर पाते है| किन्तु गर्मी मे चादर लपेट तो कर ही सकते है | क्योकि यह शरीर को ठंडक देकर किया जाने वाला प्रयोग है |

चादर लपेट का प्रयोग त्वचा के रोम छिद्रों को खोल देती है । प्राय: हमारी त्वचा के अनेक छिद्र बंद होते है | गले का पिछला भाग, पीठ का पिछला भाग, पुठ्ठे का भाग व शरीर के अन्य अंगो पर गन्दगी बुरी तरह जमा रहती है |

यदि शरीर की त्वचा पर गन्दगी नहीं होती है तो भी शरीर के विभिन्न अंगों के रोम छिद्र असक्रिय रहते है | त्वचा के रोम छिद्र बंद रहते है

इसलिये त्वचा को शरीर का महत्वपूर्ण सफाईकर्मी अंग भी कहते है । जितनी त्वचा आपकी सक्रिय होगी उतना आपका मोटापा कम होगा |

त्वचा शरीर का एक चमत्कारिक अंग (Motapa Kaise Kam Karen):

त्वचा का क्षेत्रफल करीब 19 वर्ग मीटर होता है । त्वचा के प्रत्येक वर्ग इंच में 2800 रोम छिद्र होते है । सम्पूर्ण शरीर में करीब 70 लाख रोम छिद्र होते है । इन छिद्रो के साथ छोटी नली के आकार की ग्रंथियाँ होती है । यदि इन ग्रंथियों को एक-एक कर के फैलाया जाए तो उसका क्षेत्रफल करीब 10 मील के बराबर हो जायेगा । इन छिद्रों से शरीर ऑक्सीजन को अंदर खींचना है । इसके साथ ही त्वचा २४ घंटो में ६५० मिली गंदगी पसीने के माध्यम से निकालता है

जब शरीर की कार्यक्षमता बढ़ जाएगी जो निश्चित ही हम ज्यादा समय व्यायाम कर पाएगे | जब हम ज्यादा समय व्यायाम कर पाएगे तो निश्चित ही अपना वजन कम कर पाएगे |

त्वचा शरीर से निरंतर गंदगी बाहर करती है (Motapa Kaise Kam Karen) :

इसी प्रकार गंदगी व प्रदूषण की वजह से शरीर के रोम छिद्र बंद हो जाते है | रोम छिद्र के बंद होने से शरीर से पसीने के माध्यम से गंदगी दूर नही होती है | किन्तु श्रम के अभाव में पर्याप्त पसीना शरीर के बाहर नहीं निकाल पाता है | व्यक्ति मोटापे के साथ-साथ अनेक रोगों का शिकार हो जाता है | त्वचा हमारे शरीर का अत्यधिक महत्वपूर्ण सफाई कर्मी अंग है |

स्वस्थ व सक्रिय त्वचा से मोटापा कम करती है (Motapa Door Kare):

स्वस्थ शरीर के लिए त्वचा का कार्यक्षम होना बहुत आवश्यक है | कई व्यक्ति मोटापा कम करने के लिए व त्वचा को कार्यक्षम बनाने के लिए स्टीम बाथ का सहारा लेते है | तो कुछ लोग प्राकृतिक चिकित्सा मे त्वचा को सक्षम बनाने के लिए घर्षण स्नान का प्रयोग करते है | इस प्रकार हम देख सकते है की त्वचा की सेहत मोटापा कम करने मे कितनी आवश्यक है |

क्योकि त्वचा की अंदर की सतह पर ही चर्बी जमा होती है | जितनी आपकी त्वचा सक्रिय होगी उतनी चर्बी त्वचा पर कम जमा होगी | इस प्रकार आप मोटापे से मुक्त होगे |

चादर लपेट के लिए आवश्यक सामग्री(How Can We Control Obesity):

1 डबल बैड का पतला चादर, 1 बड़ा कंबल /2 छोटे कंबल व 1 नैपकींन |

चादर लपेट की विधि (Motapa Kam Kaise Kare):

चादर लपेट के लिए चादर को 10 मिनिट के लिए पानी में गला दे | चादर के पानी में अच्छे से गीला होने के बाद चादर को अच्छे से निचोड़ ले | यदि आप चादर को अच्छे से नही निछोड पाये तो अपने साथी की मदद से निचोड ले |

सबसे पहले कंबल खोलकर कर जमीन पर बिछा दे | इस कंबल पर पानी में गीली की हुई चादर को अच्छे से बिछा ले | अब नैपकीन को गीला कर के रख ले |

जिस व्यक्ति को चादर लपेट करवाना है उसे अत्यावश्यक अंत वस्त्र में गीली चादर पर लिटा दे | व्यक्ति चादर पर पीठ के बल लेटने और उनके हाथ व पैर पास-पास रहेगे | अब चादर से उसके शरीर को गले के नीचे वाले भाग को अच्छे से लपेट दे | शरीर की लपेट ज्यादा टाइट नहीं होना चाहिए | अब इस चादर लपेट के बाद व्यक्ति के शरीर को कंबल से पूर्ण रूप से लपेट दे |

शरीर को कंबल से ऐसा लपेटना है की सूती चादर व शरीर पूर्ण रूप से कंबल से ढँक जाये | इस प्रकार शरीर ऐसा ढँक जाएगा की उसके अंदर हवा न जा सके |

चादर लपेट पूर्ण करने के बाद लपेट अच्छे से हो गई है ऐसा सुनिश्चित कर ले | लपेट अच्छे से हो जाने के बाद गीला किया हुआ नैपकिन व्यक्ति के सिर पर फैला कर रखे दे ताकि व्यक्ति की आँख, कपाल पूर्ण रूप से ढँक जाये |

विशेष सावधानी :

चादर लपेट करते समय दोनों हाथों व पैरों को शरीर के पास –पास रखते हुए इनके बीच के स्थान को खाली स्थान को कपडे से भर देना चाहिए । यदि रोगी के पैर अत्यधिक ठंडे है तो उसके पैरों को बाहर रखा जा सकता है । गीले तौलिये से सिर को सदैव ठंडा रखना है |

आवश्यक सावधानी :

यदि आप को ठंडक की समस्या है | यदि आपको सर्दी हमेशा बनी रहती है | इसके साथ ही यदि आप किसी रोग विशेष के शिकार है? तो आपको किसी कुशल प्राकृतिक चिकित्सक के मार्ग दर्शन में ही चादर लपेट के प्रयोग को करना चाहिए |

lifestyleexpert.com